हम चाहे कितने भी आधुनिक हो जाएँ पर हमारा अस्तित्व, हमारी जड़ें, हमारी पुरानी संस्कृति में ही निहित हैं। हमारी प्राचीन सभ्यता और संस्कृति ने सम्पूर्ण विश्व को प्रभावित किया है। इस भारत भूमि पर अनेक ऋषि-मुनियों ने जन्म लिया और अनेक पौराणिक ग्रंथों की रचना की। ऋषि वाल्मीकि द्वारा रचित रामायण उनमें से एक प्रमुख ग्रंथ है। रामायण न केवल मानवीय संबंधों पर बल देती है बल्कि धर्म पर चलने की भी सीख देती है। एक तरफ कुसंगति से दूर रहने की प्रेरणा देती है तो दूसरी तरफ बुराई पर अच्छाई की जीत का ज्ञान देती है।

इन सभी मानवीय मूल्यों सेअपने विद्यार्थियों व समाज को अवगत कराने का एक प्रयास था रामायण मंचन जोकि नेशनल विक्टर पब्लिक स्कूल के विद्यार्थियों द्वारा 12 अक्तूबर को प्रदर्शित किया गया। नन्हे कलाकारों ने रामायण के सभी पात्रों का बहुत ही सुंदर तरीके से अभिनय किया। इस कार्य में सबसे अधिक महत्वपूर्ण भूमिका प्रधानाचार्या श्रीमती वीना मिश्रा की है जोकि न केवल इस संस्थान को दिशा प्रदान कर रही हैं अपितु विद्यार्थियों को प्रोत्साहित कर आत्मविश्वास की भावना जागृत कर रही हैं।

यह संस्थान न केवल अपनी आधुनिक शिक्षा प्रणाली के लिए प्रसिद्ध है बल्कि अपनी प्राचीन सभ्यता और संस्कृति की धरोहर को अपनी आने वाली पीढ़ी को हस्तांतरित करने की भूमिका बड़ी ही बखूबी से निभा रहा है। आधुनिक शिक्षा के साथ-साथ विद्यार्थियों को अध्यात्म से जोड़ना भी आवश्यक है जिससे वे भविष्य में आने वाली हर चुनौती का सामना आत्मविश्वास से कर सकें।

October 16, 2021